किसान न्याय योजना लिस्ट 2022: आवेदन के साथ चौथी लिस्ट देखें

छत्तीसगढ़ के मुख्यमंत्री माननीय भूपेश बघेल जी ने Rajiv Gandhi Kisan Nyay Yojana किसानों की धान की फसलों पर उन्हें लाभ मिल सके इसलिए बनाई गई है।

Contents hide

Rajiv gandhi nyay yojana की शुरुआत finance ministers द्वारा विधानसभा में 2020- 21 के बजट को बनाते हुए किया गया था। इस योजना में किसानों को उनके धान के सही राशि प्रदान की जाएगी।

सरकार के द्वारा वर्ष 2022 तक किसानों की आय को 2 गुना करने के टारगेट को निर्धारित किया गया है। इसके लिए state and central govt. विभिन्न प्रकार की योजनाओं को सही समय पर प्रारम्भ भी करवा रही है।

अतः इन बातो को ध्यान लेते हुए छत्तीसगढ़ सरकार द्वारा राजीव गांधी किसान न्याय योजना का आरंभ कर दिया गया है।

जैसे कि इस योजना के द्वारा आप आवेदन किस प्रकार कर पाएंगे?, योजना का मुख्य उद्देश्य, लाभ, महत्वपूर्ण दस्तावेज तथा इसकी पात्रता क्या होगी? आदि।

यदि आप भी Rajiv Gandhi Nyay Yojana का लाभ उठाना चाहते हैं तो, आप हमारे लेख के साथ अंत तक जुड़े रहे और आराम से लेख पढ़ें। दोस्तों आप हमारे इस लेख के जरिए बड़ी ही सरलता के साथ आवेदन कर पाएंगे।

राजीव गांधी किसान न्याय योजना 2022

लॉकडाउन की अवधि में छत्तीसगढ़ सरकार ने महात्मा गांधी रोजगार गारंटी योजना (मनरेगा) के तहत बड़े पैमाने पर रोजगार व्यवस्थित कर प्रतिदिन औसतन 23 लाख ग्रामीणों को सीधा लाभ पहुंचाया ।

न्यूनतम समर्थन मूल्य पर खरीदे जाने वाले 1 पदों की संख्या 7 से बढ़कर 25 कर दी गई है तथा महुआ फूल के निर्धारित समर्थन मूल्य ₹17 प्रति किलो में राज्य सरकार द्वारा उसे ₹13 प्रति किलो आंतरिक प्रोत्साहन राशि भी दिलाई जाएगी।

योजना के तहत प्रदेश के किसानों को ₹ 9,000 प्रति एकड़ की सहायता राशि प्रदान करवाई जाएगी। योजना के तहत किसानों को धान के समर्थन मूल्य के अंतर की राशि प्रदान की जाएगी।

हम आपको अपने इस लेख के द्वारा योजना से संबंधित सभी जानकारियां बताएंगे। यह राशि कुटकी, सोयाबीन,मक्का, कोदो, अरहर तथा गन्ना आदि का उत्पादन करने वाले किसानों को दी जाएगी।

इसके अलावा यदि वर्ष 2020-21 में किसान द्वारा न्यूनतम समर्थन मूल्य पर धान विक्रय करवाया गया था। एवं किसान धान के बदले

  • गन्ना
  • अरहर
  • सोयाबीन
  • कोदो
  • कुटकी
  • मक्का दलहन
  • तिलहन
  • पपीता
  • सुगंधित धान
  • केला आदि

फसलों को लगाता है या फिर वृक्षारोपण करता है तो, इस स्थिति में किसान को ₹ 10,000 प्रति एकड़ सहायता राशि प्रदान करवाई जाएगी।

वृक्षारोपण करने वाले किसानों को 3 वर्ष तक सहायता राशि प्रदान की जाएगी। सरकार द्वारा राजीव गांधी किसान न्याय योजना का बजट ₹ 5,100 करोड़ रुपए निर्धारित किए गए हैं।

राज्य के सभी किसान योजना का लाभ प्राप्त करने के लिए पात्र हैं वित्त मंत्री द्वारा 2021-22 का बजट पेश करते हुए योजना का आरंभ करने का निर्णय लिया गया था।

Rajiv Gandhi Kisan Nyay Yojana 2022

Yojana Nameराजीव गाँधी किसान न्याय योजना
Yojana लिस्टराजीव गाँधी किसान न्याय योजना सूची 2021
आधिकारिक पोर्टलagriportal.cg.nic.in
स्टेटसCG Kisan Nyay Yojana Status 2022
कृपया लॉग इन करेंClick here
Form PDF Download – Kisan Nyay Yojana ListPDF Form Download

राजीव गांधी न्याय योजना की शुरुआत भूपेश बघेल जी (छत्तीसगढ़ के मुख्यमंत्री ) के द्वारा 21 मई से शुरू की जाएगी।

उसके बाद ही इस योजना के तहत आवेदन की प्रक्रियाओं को भी चालू करवाया जाएगा।

Rajeev gandhi kisan nyay yojana के अंतर्गत राज्य सरकार खरीफ 2019 में पंजीकृत एवं उपार्जित रकबे के आधार पर धान मक्का एवं गन्ना जैसी फसलों के लिए सहायता राशि को किसान के खाते में पहुंचा दिए जाएंगे।

Rajeev gandhi kisan yojana के तहत ही राज्य सरकार द्वारा राज्य के किसानों के खातों में ₹ 20 लाख भिजवाए जाएंगे।

राजीव गांधी किसान न्याय योजना के तहत सरकार ने ₹ 5,700 का प्रावधान करवाया है। राज्य के कांग्रेस सरकार 5,700 करोड़ रुपए की राशि 4 किस्तों में सीधे किसानों के खातों में भेजो आएगी।

जिसके लिए जिले के सभी किसानों के लिए तथा कांग्रेस परिवार के तरफ से मुख्यमंत्रियों का आभार हैं।

फसलों की उत्पादकता और फसल विविधीकरण को बढ़ावा देने के लिए छत्तीसगढ़ सरकार द्वारा राजीव गांधी किसान न्याय योजना की शुरुआत की गई थी।

Rajiv Gandhi Nyay Yojana 2022 के अंतर्गत में सरकार ने खरीफ फसलों की उद्यानिकी फसलों को भी शामिल करने का निर्णय लिया था।

Kisan Nyay Yojana 2022 Features

  • इस योजना के अंतर्गत खरीफ समय में फल-फूल,सब्जी और मौसम की खेती करने वाले किसानों को ₹9000 प्रति एकड़ सहायता प्रदान करवाई जाएगी।
  • Rajiv gandi kisan yojana 2021-22 के अंतर्गत 2020 में धान की खेती करने वाले रकबे में उद्यानिकी फसलों की खेती चालू खरीफ सीजन में किए जाने पर उन्हें प्रति एकड़ ₹ 10,000 सब्सिडी देने का प्रावधान निर्धारित किया गया है।
  • इसके अलावा पूर्व में खरीफ सीजन 2021-22 में गन्ना,धान,अरहर, सोयाबीन, दलहन,मक्का जैसे खेती करने वाले किसानों को भी सब्सिडी देने का निर्णय लिया गया था।
  • कुटकी और रागी की फसलों को उत्पादित करने वाले किसानों को भी इस योजना के अंतर्गत शामिल किया गया था।
  • 8 सितंबर 2022 को मुख्यमंत्री भूपेश बघेल जी के द्वारा कैबिनेट बैठक का आयोजन करवाया गया था।
  • जिसमें खरीफ वर्ष 2021-22 की सभी फसलों को शामिल करने का निर्णय लिया गया है।
  • खरीफ फसल की खेती करने वाले किसानों को ₹ 9,000 प्रति एकड़ की दर से धनराशि प्रदान करवाई जाएगी।
  • इस निर्णय से राज्य सरकार की उद्यानिकी फसलों को बढ़ावा मिलेगा तथा इसके अलावा फसल विविधीकरण से लोगों के स्वास्थ्य और पोषण के अस्तर भी सुधरेंगे। खरीफ के मौसम में ;

फल उत्पादन के माध्यम जैसे कि ;

  • केला,
  • पपीता,
  • नाशपाती,
  • ड्रैगन फ्रूट ,
  • आंवला संतरे,
  • अमरूद एवं बैर

तथा सब्जी की खेती के अंतर्गत

  • आलू,
  • भिंडी,
  • शकरकंद,
  • टमाटर,
  • बैंगन और कद्दू

पुष्पों के अंतर्गत

  • गुलाब और गेंदा के फूल की खेती

मसालों में

  • मिर्ची,
  • हल्दी,
  • अदरक

इन सभी उत्पादक कृषियो को प्रति एकड़ ₹ 9000 की सहायता राशि प्रदान करवाई जाएगी।

इसके अलावा काजू की खेती करने वाले किसानों को भी इस योजना के अंतर्गत सहायता की राशि प्रदान करवाई जाएगी।

राजीव गांधी किसान न्याय योजना के महत्वपूर्ण दस्तावेज।

  • Valid mobile Number with aadhar registerd
  • आय प्रमाण पत्र
  • निवास प्रमाण पत्र
  • आधार कार्ड-aadhar card
  • बैंक खाता पासबुक
  • पासपोर्ट साइज फोटो
  • मोबाइल नंबर

किसान न्याय योजना 2022 का पंजीकरण आरंभ

छत्तीसगढ़ में सरकार द्वारा राजीव गांधी किसान न्याय योजना के अंतर्गत Registration आरंभ हो चुके हैं। पंजीकरण के लिए दिशा निर्देश जारी कर दिए गए हैं।

जो भी किसान Rajeev Gandhi Kisan Yojana का लाभ उठाना चाहते हैं। 1 जून 2021 से 30 सितंबर 2021 के बीच आधिकारिक पोर्टल पर अपना पंजीकरण करवाना आवश्यक है।

किसान द्वारा किया गया आवेदन तथा जमा किए गए दस्तावेजों का सत्यापन ग्रामीण कृषि विस्तार अधिकारी द्वारा करवाया जाएगा। निर्धारित समय सीमा में आवेदन पत्र और किसान द्वारा जमा किए गए।

दस्तावेजों को संबंधित किसान सहकारी समिति में जमा किया जाएगा। आवेदन करते समय किसान को अपना आधार नंबर देना अनिवार्य है।

यदि किसी कारण से आप अपना आधार नंबर देने में असमर्थ है तो वह भारतीय विशिष्ट पहचान प्राधिकरण में पंजीकरण करवाकर इस योजना का आवेदन कर पाएंगे और योजना का लाभ उठा पाएंगे।

राजीव गांधी किसान न्याय योजना 2021 की दूसरी किस्त

  • किसान न्याय योजना 2022 को छत्तीसगढ़ के मुख्यमंत्री श्री भूपेश बघेल द्वारा शुरू करवाया गया है।
  • सरकार द्वारा 20 अगस्त 2021 को पूर्व प्रधानमंत्री स्वर्गीय राजीव गांधी जी के जयंती के मौके पर दूसरी किस्त की राशि किसानों के खातों में भेजने की घोषणा करवाई गई है।
  • जिससे कि लगभग 21 लाख धान तथा गन्ना उत्पादक किसानों को लाभ पहुंचाया जाएगा।
  • सरकार द्वारा दूसरी किस्त के माध्यम से लगभग 1,522 करोड़ रुपए की धनराशि सीधे किसान भाइयों के खाते में भिजवाई जाएगी।
  • योजना में धन तथा गन्ना उत्पाद करने वाले किसानों के लिए की गई थी।
  • इसके माध्यम से 5600 करोड़ रुपए से अधिक की राशि चार किस्तों में किसानों के खातों में भेजवाई जाएगी।
  • पहली किस्त के स्वरूप लगभग 1525 करोड़ 97 लाख रुपए की राशि का भुगतान करवाया गया था।
  • Rajiv Gandhi Nyay Yojana 2022 के तहत किसानों की उपज पर सही मूल्य दिलाने तथा उनकी फसलों की उत्पादकता एवं फसल विविधीकरण को बढ़ाने के उद्देश्य से आरंभ करवाया गया है।

पहली किस्त की राशि को 22 लाख किसानों तक पहुंचाया गया

राजीव गांधी किसान न्याय योजना का मुख्य उद्देश्य किसानों की आय में वृद्धि करवाना है। खरीफ सीजन के 2019-20 में लगभग 19,00,000 किसानों ने इस योजना के अंतर्गत अपना पंजीकरण कराया था।

सरकार द्वारा सभी पंजीकृत किसानों के खाते में 5628 करोड रुपए की सहायता राशि चार किस्तों के माध्यम से भिजवाई गई थी।

Rajiv Gandhi kisan Nyay Yojana को प्रदेश के किसानों को आर्थिक सहायता प्रदान करने के लिए आरंभ करवाया गया था।

Rajiv Gandhi Kisan Nyay Yojana 2022 को आरंभ करने का मुख्य उद्देश्य किसान की आय में बढ़ोतरी करवाना है।

21 मई 2021 को छत्तीसगढ़ के मुख्यमंत्री श्री भूपेश बघेल जी के द्वारा एक वीडियो कॉन्फ्रेंसिंग का आयोजन करवाया गया।

इस वीडियो कॉन्फ्रेंसिंग के माध्यम से मुख्यमंत्री जी द्वारा 22 लाख किसानों के खातों में राजीव गांधी किसान न्याय योजना की पहली किस्त के स्वरूप 1,500 करोड रुपए की राशि भिजवाई गई थी।

इसके अलावा सरकार द्वारा योजना के अंतर्गत खरीफ सीजन में धान उत्पादक किसानों को ₹ 90,00 प्रति एकड़ के हिसाब से सहायता की धनराशि प्रदान करवाई गई।

राजीव गांधी किसान न्याय योजना पोर्टल

राजीव गांधी किसान न्याय योजना के सफलतापूर्व कार्यान्वयन के लिए छत्तीसगढ़ सरकार द्वारा एक पोर्टल को जारी करवाया गया है।

यह पोर्टल एनआईसी के सहयोग से विकसित किया गया है।

इस पोर्टल के माध्यम से किसान भाई अपना पंजीकरण करवा पाएंगे तथा इसके अलावा कृषि भूमि का रिकॉर्ड का शुद्धिकरण, अपडेशन तथा आधार से लिंक भी पोर्टल के माध्यम से ही करवा पाओगे।

इस योजना के अंतर्गत कार्यान्वयन राज्य एवं जिला स्तरीय समिति द्वारा किया जाएगा। समिति द्वारा सभी हितग्राहियों का सत्यापन सफतापूर्वक किया जाएगा। उसके पश्चात उन्हें लाभ की राशि प्रदान करवाई जाएगी।

राजीव गांधी किसान न्याय योजना के अंतर्गत क्या- क्या बदलाव आए हैं?

राजीव गांधी किसान न्याय योजना के अंतर्गत सरकार द्वारा कई बदलाव करवाए गए हैं। 2020-21 में सभी किसान जिन्होंने समर्थन मूल्य पर धान का विक्रय किया था।

वह किसान के बदले कोदो, कुटकी, मक्का,सोयाबीन,दलहन, तिलहन, गन्ना, सुगंधित धान, फोर्टीफाईड धान आदि को फसल का उत्पादन करते या फिर इनका पौधारोपण करते हैं।

तो उन सभी किसानों को ₹10,000 की सहायता राशि प्रदान करवाई जाएगी सरकार द्वारा सभी पौधारोपण करने वाले किसान भाइयों को 3 वर्षों तक अनुदान प्रदान करवाया जाएगा।

इसके अलावा सभी के साथ जिन्होंने खरीफ वर्ष 2021- 22 में धान की फसल के साथ-साथ खरीफ की फसल जैसे कि मक्का, सोयाबीन,गन्ना, कोदो,कुटकी,अरहर का उत्पादन किया है।

तो उन्हें भी प्रति वर्ष ₹9000 प्रति एकड़ की सहायता राशि प्रदान करवाई जाएगी। छत्तीसगढ़ सरकार द्वारा कोदो कुटकी का न्यूनतम समर्थन मूल्य ₹3000 प्रति कुंटल निर्धारित किया गया है।

5,837 करोड़ रुपए धान उत्पादक किसानों को दिए जाएंगे

राजीव गांधी किसान न्याय योजना को छत्तीसगढ़ के मुख्यमंत्री से भूपेश बघेल जी के द्वारा आरंभ करवाया गया है।

इस योजना के माध्यम से धान की फसल पर किसानों को लाभ पहुंचाया जाता है। 18 मई 2021 को मुख्यमंत्री के निवास कार्यालय से एक मंत्रिपरिषद की बैठक का आयोजन करवाया गया था।

यह बैठक वर्चुअल माध्यम से आयोजित करवाई गई थी। इस बैठक में सरकार द्वारा कई निर्णय लिए गए थे। सरकार द्वारा इस बैठक में मुख्यमंत्री वृक्ष रोपण प्रोत्साहन योजना आरंभ करने का भी निर्णय लिया गया था।

इसी के साथ सरकार द्वारा यह फैसला लिया गया है, कि राजीव गांधी के सामने आए इस योजना के अंतर्गत किसानों को रु 5,837 करोड़ की राशि 4 किस्तों में दी जाएगी।

यह राशि धान फसल के रजिस्टर्ड किसानों और बीज उत्पादक किसानों को दिए जाने का निर्णय लिया गया है।

इस योजना के माध्यम से प्रदेश के किसानों को आर्थिक रूप से सहायता प्राप्त होगी और जिससे उनकी आय में भी वृद्धि होगी।

Rajiv Gandhi Pension Yojana 2022 सहायता राशि

योजना के अंतर्गत सहायता राशि डायरेक्ट बेनिफिट ट्रांसफर के माध्यम से किसानों के खातों में पहुंचाई जाएगी। यह राशि किसानों के खातों में किस्तों में दी जाएगी।

प्रतिवर्ष सहायता राशि का निर्धारण किया जाएगा। यह निर्धारण मंत्रिमंडलीय समिति द्वारा किया जाएगा।

अगर किसान द्वारा बैंक खाते की जानकारी गलत दर्ज करवाई गई हो तो इस स्थिति में बात की जानकारी उप संचालक कृषि द्वारा संबंधित कृषक को दी जाएगी |

और किसान को 15 दिन के अंदर दोबारा से बैंक का विवरण पोर्टल पर दर्ज करवाना होगा। इसके बाद उसे लाभ की राशि प्रदान करवाई जाएगी।

इसके अलावा यदि किसान के द्वारा पिछले वर्ष धान की फसल लगाई गई हो और इस वर्ष कोई अन्य फसल लगाई गई हो तो स्थिति में अतिरिक्त आदान सहायता राशि प्रदान करवाई जाएगी।

राजीव गांधी किसान न्याय योजना के अंतर्गत बैठक

दोस्तों जैसा कि आप सभी जानते हैं कि राजीव गांधी किसान न्याय योजना को छत्तीसगढ़ सरकार द्वारा शुरू करवाया गया था।

तथा अब तक सरकार द्वारा चार किस्तों की राशि किसानों के खाते में पहुंचाई जा चुकी है। इस योजना के अंतर्गत 14 फसलों के उत्पादको को प्रति एकड़ ₹10,000 की दर से सहायता प्रदान की जाएगी |

इन 14 फसलों में धान भी शामिल है। धान उत्पादकों द्वारा यह राशि खरीफ फसल के लिए हुए आवेदन के आधार पर दी जाती है।

छत्तीसगढ़ के मुख्यमंत्री श्री भूपेश बघेल की अध्यक्षता में एक बैठक के आयोजन किया गया था।

जिसने यह निर्णय लिया गया था कि इस योजना के अंतर्गत न्याय की प्रक्रिया मंत्रिमंडलीय उप समिति द्वारा तय की जाएगी।

सरकार द्वारा इस वर्ष के लिए प्रस्ताव तैयार किया गया है।

प्रस्ताव पर संवाद करने के लिए एक वर्चुअल बैठक का आयोजन किया गया था। जिसमें मंत्रिमंडलीय की उपसमिति भी उपस्थित थीं।

वर्चुअल बैठक का आयोजन 7 मई 2021 को कृषि एवं जल संसाधन मंत्री राजेश चौबे की अध्यक्षता में दोपहर 3:00 बजे से किया गया था।

इस बैठक में सहकारिता मंत्री डॉक्टर प्रेमसाय सिंह टेकाम, खाद मंत्री अमरजीत भगत, वन आवास एवं परिवहन मंत्री मोहम्मद अकबर आदि उपस्थित होंगे।

Rajiv Gandhi Nyay Yojana 2022 के लिए सरकार द्वारा इस वर्ष 2021 में 5,703 करोड़ रुपए के बजट निर्धारित किया गया है।

इस वर्ष छत्तीसगढ़ सरकार द्वारा 20,53,000 किसानों से 90,00,000 मैट्रिक टन धान की खरीदी की गई है।

इन सभी किसानों को ₹10,000 प्रति एकड़ की धनराशि प्रदान करवाई जाएगी। यह आदान सहायता पंजीकृत रकबे के आधार पर प्रदान की जाएगी।

राजीव गांधी किसान न्याय योजना 2022

राजीव गांधी किसान न्याय योजना की निगरानी तथा अंतर विभागीय समन्वय मुख्य सचिव की अध्यक्षता में गठित राज्य स्तरीय अनुश्रवण समिति द्वारा किया जाएगा।

CG न्याय योजना का कार्यान्वयन जिला स्तर पर कलेक्टर द्वारा गठित जिला स्तरीय अनुश्रवण समिति के माध्यम से किया जाएगा।

इसके अलावा कृषि विभाग के जिला एवं मैदानी स्तर के अधिकारी द्वारा अपने क्षेत्र में राजीव गांधी किसान न्याय योजना के अंतर्गत प्राप्त हुए आवेदन का सत्यापन किया जाएगा।

यह सत्यापन शासन के दिशा निर्देश अनुसार करवाया जाएगा। यदि किसान द्वारा आवेदन पत्र में इस योजना का लाभ प्राप्त करने के लिए कोई गलत जानकारी दी गई होगी,

तो इस स्थिति में किसान से लाभ की राशि वापस मांग ली जाएगी।

Rajiv Gandhi Nyay Yojana 2022-2nd kist

छत्तीसगढ़ के मुख्यमंत्री भूपेश बघेल जी ने पूर्व प्रधानमंत्री भारत रत्न राजीव गांधी जी की जयंती के मौके पर

20 अगस्त को अपने मंत्रिमंडल के सहयोगियों के साथ-साथ अपने निवास कार्यालय से एक वीडियो कांफ्रेंस के माध्यम के जरिए।

आयोजित कार्यक्रम के द्वारा इस योजना के अंतर्गत छत्तीसगढ़ के 19 लाख किसानों को 15 सो रुपए की दूसरी किस्त लाभार्थियों के बैंक अकाउंट में ऑनलाइन भिजवाई जा चुकी है।

अगर आप भी इस योजना का लाभ लेना चाहते हैं तो जल्द से जल्द आप इस योजना के अंतर्गत आवेदन करवा लीजिए।

Ekikrit Kisan Portal Login करने की प्रक्रिया

  • सर्वप्रथम आपको राजीव गांधी किसान न्याय योजना की आधिकारिक वेबसाइट पर जाना है।
  • आधिकारिक वेबसाइट पर जाने के बाद आपके सामने होम पेज खुलकर आ जाएगा।
  • होमपेज पर जाने के बाद आपके सामने लॉगिन का विकल्प दिखाई देगा।
  • आपको उस विकल्प पर क्लिक कर देना है।
  • अब आपके सामने एक नया पेज खुल कर आएगा।
  • उसने पेज पर आपको आवेदन के प्रकार का चयन करना है।
  • उसके बाद आपको अपनी यूजर, आईडी पासवर्ड तथा कैप्चा कोड दर्ज करवाना है।
  • इसके बाद आपको लॉगिन के विकल्प पर क्लिक कर देना है।
  • इस प्रकार आप अपनी आईडी को लॉगिन कर पाओगे।

किसान न्याय योजना चौथी किस्त

राजीव गांधी किसान न्याय योजना 202122 के अंतर्गत चौथी किस्त की राशि 18 ,53,000 धान उत्पादक किसानों के लिए जारी की जाएगी जो कि 104 करोड 27 लाख रुपए है।

अब तक इस योजना के अंतर्गत 4500 करोड़ रुपए का भुगतान किया जा चुका है। राजीव गांधी किसान न्याय योजना के अंतर्गत प्रथम के 21 मई 2020 को पंद्रह सौ करोड़ रुपए की दी गई थी।

इसके पश्चात द्वितीय किस्त 20 अगस्त , 2020 को पंद्रह सौ करोड़ रुपए दी गई थी तथा इसके अलावा तृतीय किस्त नवंबर 2020 में 1.500 करोड़ रुपए की दी गई।

अब के समय में चौथी किस्त 21 मार्च 2021 को किसानों के खातों में पहुंचाई जाएगी वह सभी बीज उत्पादक प्रमाणित किसान जिन्होंने इस योजना के अंतर्गत आवेदन किया था।

उनको 23 करोड़ 62 लाख रुपए का भुगतान किया जा चुका है। बीज उत्पादक किसानों की श्रेणी में लगभग 4777 किसान है।

पंजीकरण की समय सीमा बढ़ाई जाएगी

Rajeev Gandhi Kisan Nyay Yojana 2021-22 के अंतर्गत सरकार द्वारा पंजीकरण करने के समय सीमा को बढ़ाया जाएगा।

यह पंजीकरण खरीफ वर्ष 2020 के लिए होने है। पहले यह तिथि 31 जनवरी 2021 की थी। वह सभी किसान भाई जिन्होंने अब तक योजना के अंतर्गत पंजीकरण नहीं करवाया है, वे भी अब करवा पाएंगे।

Rajeev Gandhi kisan nyay Yojana के लिए खाद विभाग द्वारा पंजीकृत किसानों का डाटा मानिक किया जाएगा।

इसके पश्चात उपार्जित मात्रा के आधार पर अनुपातिक रकबा की जानकारी देकर सहायता राशि की गणना करवाई जाएगी।

सहकारी चीनी के कारखानों में पंजीकृत रकबा के Rajeev Gandhi kisan nyay Yojana के अंतर्गत गणना की जाएगी।

जिससे कि उन्हें अनुदान सहायता राशि प्रदान करवाई जा सके। यह राशि गन्ना पराई वर्ष 2021-22 के लिए प्रदान की जाएगी।

इस योजना के अंतर्गत

  • धान
  • मक्का
  • गन्ना

आदि के किसानों को छोड़कर अन्य फसलों तथा

  • सोयाबीन
  • मूंगफली तेल
  • कोदो कुटकी
  • मूंग
  • अरहर तथा रागी

की फसल के लिए सहायता की राशि दी जाएगी तथा इसकी गणना गिरदावरी के अनुसार करवाई जाएगी।

राजीव गांधी किसान न्याय योजना का मुख्य लक्ष्य क्या है?

राजीव गांधी किसान न्याय योजना के अंतर्गत गन्ना उत्पादक किसानों को भी ₹74 करोड़ 24 लाख रुपए का भुगतान करवाया जा चुका है।

गन्ना उत्पादक श्रेणी में 34,292 किसान है

इस योजना के सभी श्रेणियों के किसानों को अब तक 5 हजार 702 करोड़ 13 लाख रुपए का भुगतान करवाने का लक्ष्य निर्धारित करवाया गया था।

जिसमें से चार हजार 597 करोड़ 86 लाख रुपए का भुगतान किया जा चुका है।

राजीव गांधी किसान न्याय योजना 2021 के अंतर्गत लगभग 18.38 लाख रुपए किसानों को सीधे उनके बैंक अकाउंट में ट्रांसफर करवा दिया गया है।

इन सभी किसानों को 9.54 लाख सीमांत किसान है। 5.60 लाख लघु किसान हैं तथा 3.21 लाख बड़े किसान शामिल है।

इस योजना में 14 फसलों पर आर्थिक सहायता दिलवाई जाती है। जो कि धान, मक्का, अरहर,कुलथी, राम तिल, सोयाबीन,मूंग, गन्ना, मूंगफली, तिल, उड़द, कोदो,कुटकी तथा रागी हैं।

राजीव गांधी किसान न्याय योजना में मिलने वाली धनराशि

राजीव गांधी किसान न्याय योजना 2021-22 के अंतर्गत राज्य के किसान बहनों की फसलों के लिए 18 लाख 34 हजार 834 किसानों को पहली किस्त के स्वरूप में 1,500 करोड़ रुपयों की धन राशि प्रदान की जाएगी।

ऐसे ही गन्ना फसल के लिए पर विशाल 2021 में सहकारी कारखाना द्वारा क्रय किए गए थे।

गन्ने की मात्रा के आधार पर FRP राशि 261 रुपए प्रति क्विंटल और प्रोत्साहन व सहायता राशि 90.75 ₹ प्रति क्विंटल अर्थात अधिकतम ₹355 प्रति क्विंटल की दर से दिया जाएगा।

Rajeev gandhi kisan nyay yojana के अंतर्गत राज्य के किसानों को 2019 से खरीफ की धान और मक्का जैसी फसलों पर ज्यादा से ज्यादा ₹10,000 प्रति एकड़ की दर से सरकार द्वारा आर्थिक सहायता प्रदान करवाई जाएगी।

सरकार द्वारा आर्थिक सहायता प्रदान करने पर Rajeev gandhi kisan nyay yojana के तहत छत्तीसगढ़ के करीब 19 लाख किसानों को इसका मुनाफा मिलेगा।

राजीव गांधी किसान न्याय योजना के पंजीकरण की तिथि क्या है?

जो भी किसान राजीव गांधी किसान न्याय योजना 2021-22 का लाभ उठाना चाहते हैं। उन्हें पहले अपना पंजीकरण करवाना आवश्यक है।

यदि आप इसके बाद पंजीकरण करवाएंगे तो आपको इस योजना का लाभ उठाने के लिए आगे आने वाले साल का इंतजार करना होगा।

राजीव गांधी किसान न्याय योजना से संबंधित सभी जरूरी दिशा निर्देश कृषि विकास कल्याण विभाग द्वारा जारी कर दिए गए हैं।

विभाग द्वारा उन सभी फसलों से संबंधित जानकारियां प्रदान कर दी गई है। जिनका पंजीकरण करवाना होगा।

सभी पात्र किसानों के बैंक अकाउंट में डायरेक्ट बैंक ट्रांसफर के जरिए से लाभ की राशि आप तक पहुंचाई जाएगी।

नागरिक आपूर्ति एवं उपभोक्ता संरक्षण विभाग द्वारा धान एवं मक्का जैसी फसलों का समर्थन पर उपार्जन के लिए पंजीकरण कराया जा रहा है।

राजीव गांधी किसान न्याय योजना के बारे में विस्तृत जानकारी

राजीव गांधी किसान न्याय योजना के तहत बढ़ी हुई धनराशि की जानकारी अनुसार राशि अप रु 5,700 करोड़ से बढ़कर रु 5,750 करोड़ कर दी गई है।

बघेल जी ने कहा कि योजना के तहत राज्य के 19 लाख किसानों को इस वर्ष 5,750 करोड़ रुपए दिए जाएंगे।

इसके अंतर्गत धान की खेती में किसानों को प्रति एकड़ ₹10000 तथा गन्नों की खेती के लिए ₹10,000 प्रति एकड़ की दर से भुगतान किया जाएगा।

करीब 19 लाख किसानों को सीधे प्रभावित करने के लिए इस योजना के प्रथम किस्त के रूप में राज्य सरकार द्वारा पंद्रह सौ करोड रुपए किसानों के खातों मे पहुंचाये गए है ।

किसान न्याय योजना के लिए बजट की नई घोषणा

राहुल गांधी के लोकसभा चुनाव से पहले राजीव गांधी किसान न्याय योजना 2021-22 का जिक्र किया गया था। जो जल्द ही छत्तीसगढ़ राज्य में लागू की जाएगी।

इसके अलावा भी बजट भाषण में कई घोषणाओं की किसान मजदूर रोजगार और शिक्षा को लेकर घोषणा हुई।

छत्तीसगढ़ का बजट पेश करते हुए मुख्यमंत्री भूपेश बघेल जी ने कहा कि हमने 17 लाख किसानों के कर्ज को माफ कर दिया है।

प्रदेश में गरीबी के स्तर में कमी आएगी प्रदेश की जीडीपी में 7 फ़ीसदी से अधिक की बढ़ोतरी होने का भी अनुमान लगाया गया है।

राज्य सरकार का कहना है कि इसी तरह कई प्रकार की योजनाएं छत्तीसगढ़ के किसानों के लिए शुरू करते रहेंगे और राज्य के किसानों को लाभ पहुंचाया जाएगा।

राजीव गांधी के साथ न्याय योजना के लाभ

  • राजीव गांधी किसान न्याय योजना 2022 के तहत देश के किसानों को धान के अंतर की राशि का फायदा पहुंचाया जाएगा।
  • योजना के तहत जो किसान धान गन्ना और मक्के जैसी फसलों का उत्पादन करते हैं उन्हें ही लिया गया है।
  • आने वाले दिनों में दूसरी फसलों के साथ-साथ भूमिहीन ग्रामीणों को दी योजना के शामिल में शामिल करने का विचार किया जा रहा है।
  • छत्तीसगढ़ किसान न्याय योजना 2022 के जरिए छत्तीसगढ़ के किसानों की आय में ज्यादा बढ़ोतरी आ जाएगी ।
  • राज्य के सभी किसान अपने धान कि अच्छी खेती कर पाएंगे।
  • राजीव गांधी किसान न्याय योजना 2022 का लाभ केवल छत्तीसगढ़ के किसान भाई उठा पाएंगे।

राजीव गांधी न्याय योजना के अंतर्गत समितियों के कार्य क्या हैं?

  • योजना में लाभार्थियों की जानकारी एकत्रित कर पोर्टल पर दर्ज करवाना।
  • किसानों के द्वारा दर्ज की गई शिकायतों का निराकरण करना।
  • योजना की समीक्षा एवं निगरानी।
  • भू अभिलेख द्वारा शुद्धीकरण करना।
  • ग्राम सभाओं का आयोजन करवाना।
  • कारण मैन की रणनीति को तैयार करना।
  • योजना के कार्यान्वयन में आने वाले बाधाओं को भी हल करना।
  • अब डेट तथा आधार लिंकिंग।
  • योजनाओं का प्रचार तथा प्रसार करवाना।

राजीव गांधी किसान न्याय योजना के दिशा निर्देशन

  • एग्रीकल्चर एक्सटेंशन ऑफिसर द्वारा आवेदन पत्र को सत्यापन करवाया जाएगा।
  • इसके बाद ही किसानों को को ऑपरेटिव सोसाइटी में अपना पंजीकरण करवाना होगा।
  • तथा फॉर्म वन सभी जरूरी दस्तावेजों के साथ ही जमा करवा देना है।
    • यह जरूरी दस्तावेज लोन बुक
    • आधार नंबर, बैंक
    • पासबुक, की फोटोकॉपी है।
  • सभी पंजीकृत किसानों के डाटाओं को राजीव गांधी किसान न्याय योजना के लिए मान्य रखा गया है।
  • और दूसरी फसलों के लिए राजस्व विभाग द्वारा एक और पोर्टल को शुरू किया जाएगा।
  • जिसमें Eria wise crap price coverege रहेंगी।
  • गन्ना, धान, मक्का उत्पादक किसानों को छोड़कर अन्य फसलों के लिए आदान सहायता राशि की गणना करवाई जाएगी।
  • जिसके लिए भुइया पोर्टल से डाटा कलेक्ट किया जाएगा।
  • राजीव गांधी किसान न्याय योजना का लाभ केवल वही फसल वाले कर पाएंगे।
  • जिसकी जानकारी दिशानिर्देशों में दी गई होगी। इसके अलावा किसी और फसल पर योजना का लाभ नहीं प्रदान किया जाएगा।

किसान न्याय योजना की पात्रताए

  1. योजना लाभ प्राप्त करने के लिए आपको इस योजना के पोर्टल पर पंजीकरण करवाना आवश्यक है।
  2. समस्त श्रेणी की भूस्वामी एवं वन पट्टा धारी कृषक योजना का लाभ उठाने के लिए पात्र माने गए।
  3. संस्थागत सुधार बटाईदार लीज कृषक इस योजना का लाभ उठाने के लिए पात्र नहीं माने गए हैं।
  4. आदान सहायता केवल योजना के अंतर्गत सम्मिलित फसलों पर प्रदान करवाई जाएगी।
  5. संबंधित मौसम में भुइया पोर्टल के संबंधित गिरधारी के आंकड़े तथा किसानों के आवेदन में अंकित फसल
  6. तथा रब्बे में से जो भी कम हो उस फसल यार अब देखो आदान सहायता राशि की गणना हेतु मान्य दिया जाएगा।

Rajiv Gandhi Kisan Nyay Yojana 2022 के सत्यापन के प्रक्रियाएं

  • Application Form का सत्यापन रूलर एग्रीकल्चर एक्सटेंशन ऑफिसर द्वारा कराया जाएगा।
  • जो भी किसान अन्य फसल लगाएंगे उन्हें उससे संबंधित प्राथमिक कृषि साख सहकारी समिति में पंजीकरण कराना अनिवार्य है।
  • पंजीकरण प्रक्रिया 28 फरवरी 2022 से पहले करवानी होगी।
  • यह सत्यापन गिरदावरी के डाटा के जरिए किया जाएगा जो कि भुइंया पोर्टल पर उपलब्ध कराया गया।
  • सत्यापन के बाद किसान भाई अपने आपको कोऑपरेटिव सोसाइटी में पंजीकरण करवा पाएंगे।
  • राजीव गांधी किसान न्याय योजना के माध्यम से उन्हीं फसलों पर सहायता राशि प्रदान की जाएगी ,
  • जो इस योजना के अंतर्गत शामिल की गई है।
  • पंजीकरण में किसानों को सभी महत्वपूर्ण दस्तावेज जैसे कि
    • लोन बुक,
    • आधार नंबर,
    • बैंक पासबुक,
    • फोटो कॉपी तथा पंजीकरण फॉर्म
  • आते जमा करवाना होगा।
  • इस पूरी प्रक्रिया के अंतर्गत जो भी डेटाबेस प्राप्त होंगे ,
  • उसके आधार पर नोडल बैंक के माध्यम से सहायता राशि सीधे लाभार्थी के बैंक खाते में डायरेक्ट बेनिफिट ट्रांसफर के जरिए पहुंचाई जाएगी।
  • राजीव गांधी के साथ न्याय योजना के अंतर्गत वह किसान लाभ नहीं उठा पाएंगे |
  • जिन्होंने अपना पंजीकरण नहीं करवाया होगा।

Rajiv Gandi Nyay Yojana पात्रता का निर्धारण

  • राजीव गांधी किसान न्याय योजना 2022 के अंतर्गत सभी श्रेणियों के भूतस्वामी एवं वन पत्तादार पात्र होंगे |
  • संस्थागत भुधारक किसान और रेगाहा बटाईदार,पत्तेदार किसान इस योजना के पात्र नहीं माने जाएंगे।
  • किसानों की पात्रता का निर्धारण करते समय सभी कृषि भूमि सीलिंग कानूनों के प्रावधानों का पालन किया जाएगा।
  • इसके अलावा जो भी किसान पंजीकृत हैं और उनकी मृत्यु हो जाती है |
  • तो इस स्थिति में नामांकित व्यक्ति को आदान सहायता की राशि का भुगतान करवाया जाएगा।
  • राजीव गांधी किसान या योजना के अंतर्गत पंजीकरण करवाने की स्थिति में सभी महत्वपूर्ण दस्तावेज जैसे-
    • ऋण पुस्तिका,
    • b-1 आधार नंबर,
    • पासबुक की छाया प्रति
  • आदि जमा करवानी होगी।

राजीव गांधी किसान न्याय योजना 2022 में आवेदन

  • सबसे पहले आवेदक को राजीव गांधी के किसान न्याय योजना की Official Website पर जाना है।
  • ऑफिशल वेबसाइट पर जाने के बाद आपके सामने होम पेज खुल कर आएगा।
  • होम पेज पर आपको आवेदन फॉर्म के विकल्प दिखाई देगा।जिस पर आपको क्लिक करना है।
  • आपके सामने एक नया पेज खुल कर आ जाएगा।
  • आपको उसने पेज पर PDF Form में आवेदन पत्र दिखाई देगा।
  • अब आपको Download के विकल्प पर Click कर देना है।
  • इस प्रकार आप आवेदन फॉर्म डाउनलोड कर पाओगे।

राजीव गांधी न्याय योजना के लिए ऑफलाइन आवेदन

  • सबसे पहले आपको Rajiv gandhi nyay yojana 2022 का आवेदन पत्र कृषि विस्तार अधिकारी द्वारा प्राप्त करना है।
  • आवेदन पत्र प्राप्त करने के बाद आपको आवेदन पत्र ध्यान पूर्वक पढ़ लेना है।
  • अब आपको आवेदन में सभी महत्वपूर्ण दस्तावेज जैसे कि- चरण पुस्तिका b-1 आधार नंबर, बैंक पासबुक की Photo copy को भी Submit कर देना है।
  • उसके बाद आपको कृषि विस्तार के अधिकारी के पास अपने आवेदन पत्र को जमा करा देना है।
  • उसके पश्चात कृषि विस्तार अधिकारी को आपके आवेदन पत्र का सत्यापन कर के निर्धारित समय सीमा में संबंधित प्राथमिक कृषि साख समिति में जमा कर देना है।
  • किसान इसके पश्चात संबंधित प्राथमिक कृषि साख समिति से पावती प्राप्त कर सकते हैं।
  • यदि खातेदार संयुक्त है तो इस स्थिति में पंजीयन नंबरदार नाम के साथ किया जाएगा।
  • ऐसे सभी खातेदारों को आवेदन पत्र के साथ सभी खाताधारकों की सहमति शपथ पत्र एवं अन्य महत्वपूर्ण दस्तावेजों को जमा करवा देना है।
  • पंजीकृत नंबरदार कृषक के खाते में आधार सहायता राशि जमा की जाएगी।
  • इस सहायता राशि का बंटवारा खातेदार आपसी सहमति से करेंगे।

मैन्युअल डाउनलोड करने की प्रक्रिया

  • सबसे पहले आपको Rajiv gandhi nyay yojana की Official website पर जाना है।
  • ऑफिशल वेबसाइट पर जाने के बाद आपके सामने होम पेज खुल कर आ जाएगा।
  • होम पेज पर आपको यूजर मैन्युअल के विकल्प पर क्लिक कर देना है।
  • आपके सामने निम्नलिखित विकल्प खोल कर आ जाएंगे।
    • RAEO
    • समिति
    • SADO
  • आपको अपनी आवश्यकता के अनुसार विकल्प पर क्लिक कर देना है।
  • इस प्रकार आप यूजर मैन्युअल डाउनलोड कर पाएंगे।

Kisan Nyay Yojana PDF Download करने की प्रक्रिया

  • सबसे पहले आपको राजीव गांधी किसान न्याय योजना की आधिकारिक वेबसाइट पर जाना है।
  • Official Website पर जाने के बाद आपके सामने Home Page खुलकर आ जाएगा।
  • होम पेज पर आपको दिशानिर्देश के विकल्प पर क्लिक कर देना होगा।
  • अब आपके सामने एक New Page खुल कर आएगा। उस नए पेज पर आपको एक पीडीएफ फॉर्मेट फाइल दिखाई देगी।
  • आपको उस PDF Form को डाउनलोड के विकल्प पर क्लिक कर देना है।
  • इस तरीके से आप दिशा निर्देश को Download कर पाओगे।

पंजीयन फ्लो चार्ट देखने की प्रक्रिया कैसे करे?

Rajiv Gandhi Kisan Nyay Yojana
  • सर्वप्रथम आवेदक को राजीव गांधी किसान न्याय योजना की आधिकारिक वेबसाइट पर जाना है।
  • आधिकारिक वेबसाइट पर जाने के बाद आपके सामने Home Page खुल कर आ जाएगा।
  • उस Home Page पर आपको “पंजीयन प्रोजेक्ट” का विकल्प दिखाई देगा।
  • उस विकल्प पर आपको क्लिक कर देना है।
  • अब आपके सामने एक New Page खुल कर आएगा।
  • नए पेज पर आपको पंजीयन फ्लो चार्ट से संबंधित सभी जानकारियां मिल जाएंगे।

Leave a Comment

error: Content is protected !!
YouTube