PM Gati Shakti Yojana 2022 क्या है ? जानें विस्तार से पूरी जानकारी

जैसा कि आप सभी जानते है कि हमारे देश Finance Minister Nirmala Sitharaman जी ने फरवरी १ को लोकसभा में यूनियन बजट 2022-2023 को प्रेजेंट किया। इस बजट के जरिये कई डिसिशन लिए गए है। आज हमने इस लेख में आपको बजट के अंतर्गत एक महत्वपूर्ण परियोजना Pradhan Mantri Gati Shakti Yojana की विस्तृत जानकारी प्रदान कर रखी है।

PM Gati Shakti– राष्ट्रीय मल्टीमीडिया संचार मास्टर प्लान अनिवार्य रूप से रेलवे, एकीकृत योजना और बुनियादी ढांचा वितरण परियोजनाओं के समन्वित कार्यान्वयन सहित 16 मंत्रालयों को एक साथ लाने के लिए एक डिजिटल प्लेटफॉर्म है।

यदि आप एक पाठक है , तो आप इस लेख को अवश्य पढ़ें , यह आपको देश की प्रगति में हो रहे बदलाव, उठाये गए कदम , परियोजना से होने वाले लाभ एवं प्रभाव आदि को समझने में मदद कर सकता है।

PM Gati Shakti Pariyojana 2022-23

pm gati shakti yojana

प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदीजी ने पिछले वर्ष स्वतंत्रता दिवस पर देश को सम्बोधित करते हुए इस परियोजना की जानकारी प्रदान की थी।

13 अक्टूबर 2021 को प्रधानमंत्री जी ने राज्य सरकारों के मुख्यमंत्री गढ़, लेफ्टिनेंट, गवर्नर, अन्य महानुभव आदि के समक्ष पीएम गति शक्ति को सम्बोधित व परियोजना को प्रारम्भ किया था।

प्रधानमंत्री गति शक्ति राज्य सरकारों की बुनियादी ढांचा योजनाओं और विभिन्न मंत्रालयों जैसे भारतमाला, सागरमाला, अंतर्देशीय जलमार्ग, शुष्क/शुष्क बंदरगाहों, उड़ान आदि के बारे में बात करेंगी।

पीएम जी सम्बोधन में कहते है- "आज दुर्गाष्टमी है , पूरे देश में आज शक्ति स्वरुप का पूजन हो रहा है, कन्या पूजन हो रहा है और शक्ति की उपासना के इस पुण्य अवसर पर देश की प्रगति को गति देने के शुभ कार्य  प्रारम्भ हो रहा है " 

Aazaadi Kaa Amrit Kaal

पीएम गति शक्ति के अंतर्गत अगले 25 वर्ष तक केवल देश के प्रोग्रेस के लिए कार्य किये जाएंगे जो देश के लिए आज़ादी का अमृत काल बनेगा। मोदी जी योजना का मंत्र प्रदान किया है। जो इस प्रकार है ;

Will For Progress

Work For Progress

Wealth For Progress

Plan For Progress

Preference For Progress

PM Narendra Modi

अर्ताथ अब देश इस PM Gati Shakti के द्वारा आनेवाले भारत के लिए आत्मनिर्भर भारत संकल्प के साथ 25 वर्षो तक कार्य केवल देश प्रगति के लिए किये जाएंगे।

Overview PM Gati Shakti Yojana

परियोजना प्रधानमंत्री गति शक्ति परियोजना
किसके द्वारा प्रारम्भ प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी
कब प्रारम्भ हुई 13 अक्टूबर 2021
कब तक का लक्ष्य है 25 वर्षो तक प्रगति कार्य करना
बजट 100 लाख करोड़
लाभ देश को एक सस्टेनेबल प्रोग्रेस दिलाना

PM Gati Shakti National Master Plan In Hindi

आनेवाले वर्षो में जो भी सरकार आएगी सभी का एक ही लक्ष्य होगा- इच्छा, कार्य, धन-मूल्य, योजना, व पसंद सभी देश के प्रगति के लिए होंगे।

PM Gati Shakti National Master Plan भारत के इसी आत्म बल, आत्म विश्वास एवं आत्म निर्भरता के संकल्प तक ले जाने में मदद सिद्ध होगा।

यह नेशनल मास्टर प्लान इस उद्देश्य से प्रारम्भ किये गया है जिससे 21वे सदी के भारत को गति शक्ति (Progressive Strength) देगा।

Next Generation Infrastructure

इस नेशनल प्लान को गति शक्ति नेक्स्ट जनरेशन इंफ्रास्ट्रक्चर एवं मल्टी मोडल कनेक्टिविटी से प्राप्त होगी।

Infrastructure से जुड़ी सरकारी नीतियों में planning से लेकर उसके execution क्रियान्वयन तक को यह नेशनल प्लान गति शक्ति देगा।

इस नेशनल प्लानिंग के जरिये सरकारी प्रोजेक्ट्स एक तय किये गए समय में पूरे हो इसके लिए सही जानकारी के साथ सटीक मार्गदर्शन प्रदान किया जाएगा।

गति शक्ति के इस महान अभियान के केंद्र में ये सभी शामिल होंगे ;

  • भारत के लोग
  • इंडस्ट्रीज़
  • भारत का व्यापार जगत
  • भारत के मैन्युफैक्चरर
  • गांव , शहर एवं भारत के किसान आदि
गति शक्ति यह भारत के वर्तमान एवं आनेवाली पीढ़ीओ को २१वी सदी के भारत के निर्माण के लिए नयी ऊर्जा देगा, उनके रास्ते के अवरोध समाप्त करेगा। 
-प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी 

पीएम गति शक्ति योजना का उद्देश्य

जैसा की आप जानते है कि जब भी सरकारी व्यवस्था के कार्य की बात होती है तो सरकारी शब्द सुनते ही लोगो के मन में आता था एवं आते है- ख़राब क्वालिटी का काम, काम में वर्षो की देरी, बेवजह होने वाली रुकावट, जनता के पैसा का अपमान , व्यर्थ उपयोग होना आदि।

ऐसा इस लिए क्योंकि सरकार को जनता द्वारा प्राप्त होने वाला पैसा ( टैक्स के रूप में ) एक प्रोगेसिव कार्य में उपयोग करना है , उसे बर्बाद नहीं करना है , यह उनके भावना में ही नहीं आता था।

इन सभी के कारन हमें भी ऐसा लगने लगा कि अब हमारा देश ऐसे ही चलेगा, दूसरे देशो की प्रगति को देख देश की निंदा करते रहे, और इसे लगभग मान चुके थे कि अब कुछ बदल नहीं सकता।

परन्तु पिछले सात वर्षो में सरकार ने यह गलत साबित किया है। और इसी को sustainable बनाये रखने के लिए लये G-16 प्लान को प्रारम्भ किया गया है।

इस परियोजना के निम्न उद्देश्य है:

  • प्रारम्भ हुए परियोजना को पूरा करने एवं समय से पहले पूरा करने का प्रयास किया जाएगा।
  • इंफ्रास्ट्रक्चर से जुड़ी प्लानिंग की कमियों को काम करना।
  • मैक्रो प्लानिंग के साथ कार्य करना।
  • विभिन्न मंत्रालयों एवं सरकारी विभागों के ताल-मेल के तनाव को कम कर एक ही प्लेटफार्म पर लाना।
  • ऐसा प्रगति प्राप्त करना जो कि सस्टेनेबल हो।
  • लॉजिस्टिक लागत को कम करना।
  • इम्पोर्ट-एक्सपोर्ट की प्रक्रिया को तेज करना एवं समय को कम करना।
  • टैक्स की रकम बर्बाद न करना।
  • अब सरकार की सामूहिक शक्ति सभी योजना को पूरा करने में लगाए जाएंगे।

पीएम गति शक्ति क्यों इतना महत्वपूर्ण है?

PM Gati Shakti Pariyojana 2022

इस PM Gati Shakti National Master Plan को सम्बोधित करते हुए प्रधानमंत्री जी एक सरल परन्तु सटीक उदहारण देते हुए इस गति शक्ति की महत्वत्ता को दर्शाते है।

भारत में Infrastructure के लिए एक Comprehensive Planning के बिना ही कार्य प्रारम्भ हो जाते थे।

सभी डिपार्टमेंट अपनी अलग नीतिया अपना रही है , मतलब रेलवे अपने प्लान्स पर , रोड ट्रांसपोर्ट डिपार्टमेंट अपनी प्लानिंग करते है, टेलीकॉम अपने हिसाब से एवं गैस पाइप लाइनिंग अपने हिसाब से हो रही है।

हम सभी ने यह देखा है कि जब एक सड़क पूरी तरह बनकर तैयार हो जाती है , उसके बाद गैस पाइप लाइन , वाटर पाइप लाइन आकर फिर से सड़क खोद कर उसे बिगाड़ देते है।

और यह देशभर में होते हुए पाया गया है। कही रोड पर ट्रैफिक , सर्किल बनने से अव्यवस्तथा होने लगती है आदि।

Project Synchronised Under G-16 Plan

बिना किसी प्लानिंग के किये गए कार्य के इन परेशानिओं के बीच देश में चल रहे प्रोजेक्ट्स को सिंक्रनाइज़ ( समय के साथ तरीके से समायोजित) करने में ज्यादा efforts करना पड़ता है।

इन सभी का मूल कारन है Macro Planning and Micro Implementation के अंतर को न समझना।

अलग-अलग विभागों को यह जानकारी समय पर नहीं मिल पाती कि अन्य विभाग अपने प्रोजेक्ट्स कब एवं कहाँ शुरू करने तैयारी में है।

साथ ही राज्यों के पास भी ऐसी चुनितिओं की जानकारी नहीं होती है , इन्ही Silos के कारन Decision Problems क्रिएट होती है एवं साथ में प्रोजेक्ट के लिए तय बजट की भी बर्बादी होती है।

सबसे बड़ा नुकसान यह होता है कि शक्ति बढ़ने के बजाये , शक्ति मल्टीप्लय होने के बजाये विभाजित हो जाती है। 
-PM Modi 

इन सभी कठिनाइओं का हल भी PM Gati Shakti Pariyojana से प्राप्त होगा।

  • इंफ्रास्ट्रक्चर के लिए हर एक मंत्रालय अलग-अलग प्लानिंग को रोके।
  • सभी के प्लानिंग को समझ कर एक comprehensive plan तैयार करे , Macro Plan करें।
  • प्राइवेट सेक्टर के उनके प्लान को सुलझाने में मदद दें।
  • इससे क्वालिटी इंफ्रास्ट्रक्चर का निर्माण होगा।
  • इसके कारन एक बड़े आर्थिक गतिवधियों का जन्म होता है।
  • यह बड़े पैमाने पर रोजगार के अवसर का निर्माण करता है।
  • इसमें 100 लाख करोड़ का बजट बनाया गया है।
जैसे बिना स्किल मैन पावर के किसी भी क्षेत्र में आवश्यक परिणाम प्राप्त नहीं कर सकते है , उसी प्रकार आधुनिक इंफ्रास्ट्रक्चर के बिना हम चौतरफा विकास नहीं कर सकते। 
-पीएम मोदी जी 

All Ministries At One Platform: Gati Shakti Portal

जैसा कि आप जानते है कि देश में चाहे वोट हो रहे हो या नहीं परन्तु राजनैतिक इच्छा शक्ति के साथ ही देश के आधारभूत संरचना के निर्माण को सबसे ज्यादा नुकसान सरकार ने स्वयं पहुंचाया है।

क्यूंकि कभी भी सभी राज्य के मंत्रिमंडल ने साथ में कार्य नहीं किया , उन्ही सरकारी विभागों के आपसी ताल-मेल की कमी ने इस सरंचना का विकास में स्वयं अड़चन बनी रही।

इस प्रकार ये आधारभूत सरंचना के प्रोजेक्ट्स खुद ही देश के विकास में एक दिवार बन जाते थे। लम्बे समय से पूरा न होने वाले ये प्रोजेक्ट्स अपनी जरूरत को खो देते थे।

यह समस्या PM Gati Shakti Yojana इस प्रकार सॉल्व करती है:

  • सरकार की सभी मंत्रालयों व विभागों को एक ही प्लेटफार्म लाया जाएगा।
  • यह ऑनलाइन पोर्टल होगा, जहाँ विभाग अपने डाटा जोड़ेंगे।
  • देश में चल रहे सभी प्रोजेक्ट्स की जानकारी पब्लिक रहेगी।
  • यह वेबसाइट व Gati Shakti Portal आने वाले वर्ष 2023-24 तक विकसित किये जाएंगे।
  • Whole Of Government Approach अपनायी जायेगी।
  • हर बड़े प्रोजेक्ट की सही जानकारी सभी डिपार्टमेंट को दिए जाएंगे।
  • Holistic Governence का विस्तार करेगा।

प्रधानमंत्री गति शक्ति परियोजना के प्रभाव एवं लाभ

PM Gati Shakti National Master Plan

PM Gati Shakti यह इस प्रकार की परियोजना है, जो 21वी सदी के निर्माण पर कार्य करेगी।

परियोजना का लक्ष्य अगले 25 साल तक आत्म निर्भर भारत के संकल्प के साथ भारत के लिए टिकाऊ आधारभूत सरंचना ( Sustainable Infrastructure ) का निर्माण करना है।

यहाँ हमने विभिन्न प्रकार से इस परियोजना से होने वाले प्रभाव को दर्शाया है;

सभी मंत्रालय एक प्लेटफार्म

  • सरकार इस परियोजना से सबसे ज्यादा प्रभाव सबसे पहले अपने कार्यशैली पर डालेगी।
  • अब सभी मंत्रालय एक ऐसे प्लेटफार्म पर लाये जाएंगे जहाँ वे देश में चल रहे सभी प्रोजेक्ट्स की सही जानकारी प्राप्त कर सकेंगे।
  • इससे हर मंत्रालय अपने प्रोजेक्ट्स पर एक व्यापक प्लान के साथ कार्य कर सकेंगे। ये सभी प्रोजेक्ट्स जनता के लिए भी पब्लिक होंगे।
  • इससे हमें यह लाभ होगा कि हम यह आसानी से जान पाएंगे कि देश में किस स्थान पर कौन सा प्रोजेक्ट चल रहा है।
  • इस प्रोजेक्ट का बजट कितना है , एवं किन विभागों एवं मंत्रालय द्वारा कार्य किये जा रहे है। कौन सी योजना कब पूरी होगी एवं क्या लाभ होंगे इन योजना के पूरे होने के बाद।
  • हम एक काम एवं स्थायी विकास के लिए काम करने वाली सरकार को चुनने में समर्थ होंगे। हमें सरकार के कार्यो की पारदर्शिता मिलेगी।

मास्टर प्लान एवं एक बुनियादी आधारभूत संरचना

  • इस परियोजना में सभी राज्यो को जोड़ा जाएगा एवं इससे विभिन्न राज्यों में हो रहे प्रोजेक्ट्स पर काम का एक प्लान अन्य मंत्रालय को प्राप्त होगा।
  • परियोजना से जुड़ने पर विभिन्न मंत्रालय एक कम्प्रेहैन्सिव प्लान बनाकर कार्य के समय की सटीक समीक्षा कर सकते है।
  • प्राइवेट सेक्टर भी अपने प्लान का एक व्यापक गठन कर देश के ग्रोथ में प्रभावकारी तथ्य बन सकते है।
  • इस परियोजना से जब एक व्यापक प्लान बनेगा तो एक बुनियादी टिकाऊ आधारभूत संरचना का निर्माण हो पायेगा।
  • जब एक बुनियादी सरंचना बनायी जाती है , तो इसके कार्य काल में एक बड़े रोजगार के सृजन होता है।

लॉजिस्टिक कोस्ट पर प्रभाव

  • देश में जब इंडस्ट्री के लिए एक स्पेशल ज़ोन प्रदान होता था, परन्तु उन क्षेत्रो में कनेक्टिविटी (बिजली/पानी) के लिए गंभीरता नहीं होती थी।
  • माइनिंग एवं बंदरगाह पोर्ट के क्षेत्रो में भी रेल कनेक्टिविटी नहीं हुआ करती थी। इससे हमारे ट्रांसपोर्ट खर्च बढ़ जाते थे।
  • एक्सपोर्ट के लिए इंडस्ट्रीज पोर्ट के नजदीक व उनकी फ़ास्ट कनेक्टिविटी न होने से इनके प्रोडक्ट महंगे हो जाते थे।
  • इन सब से लोगिस्टिक कोस्ट में बढ़ावा हो जाता था। परन्तु इन समस्या का समाधान गति शक्ति से मिलता है।
  • इस गति शक्ति के मास्टर प्लान से निर्माण होने वाले इंफ्रास्ट्रक्चर अन्य दूसरे इंफ्रास्ट्रक्चर को जोड़ेंगे, उनकी मदद करेंगे।
  • ये आधारभूत सरंचना लोगिस्टिक कोस्ट को कम करने में एक महत्वपूर्ण भूमिका निभाएंगे।

Leave a Comment

error: Content is protected !!
YouTube