Darbar hazaro hai aisa darbar kahan lyrics – दरबार हजारो है, ऐसा दरबार कहाँ

WhatsApp Group Join Now
Telegram Group Join Now
Instagram Group Join Now

darbar hazaro hai aisa darbar kahan: नमस्कार मित्रों आज हम इस पोस्ट पर दरबार हजारों है ऐसा दरबार कहां भजन की व्याख्या करेंगे और लिरिक्स आपके समझ रखेंगे आई दोस्तों शुरू करते हैं दरबार हजारों है ऐसा दरबार कहां

दरबार हजारो है, ऐसा दरबार कहाँ,
जो श्याम से मिलता है ,कहो मिलता प्यार कहाँ
दरबार हजारो है ….

जो आश लगाकर के दरबार में आता है,
खाली झोली आता ,भर कर ले जाता है,
मांगे से जो मिल जाये ,ऐसा भंडार कान्हा,
दरबार हजारो है।

सब के मन की बाते, बड़े ध्यान से सुनता है,
फरियाद सुने बाबा और पूरी करता है,
जंहा सबकी सुनाई हो ऐसी सरकार कहाँ,
दरबार हजारो है।

कोई प्रेमी बाबा का जब हम को मिल जाये,
सब रिस्तो से बढ़कर एक रिस्ता बन जाये,
यह श्याम धनि का है, ऐसा परिवार कहाँ,
दरबार हजारो है।

बिन्नू ने जो चाहा दरबार से पाया है,
यह ही अपना सब कुछ है,संसार पराया है,
इसे छोड़ मेरा सपना,होगा साकार कहाँ,
दरबार हजारो।

Leave a Comment

Ladli Bahan Yojana 2024: महिलाओ को 5 साल तक हर महीने 1000 रूपए Free Hindi Movies Download Web Sites 2023 9 से 12 तक Question Bank, Previous Year Paper एवं Topper Paper देखें ऑनलाइन Gruh Lakshmi Scheme 2023: Karnataka Govt Will Provide Rs. 2000/Month To Women Free Silai Machine Yojana 2023: सरकार द्वारा महिला को सिलाई मशीन